तीस दिन के लिए तर्क-ए-मय-ओ-साक़ी कर लूँ's image
1 min read

तीस दिन के लिए तर्क-ए-मय-ओ-साक़ी कर लूँ

Shibli NomaniShibli Nomani
0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

तीस दिन के लिए तर्क-ए-मय-ओ-साक़ी कर लूँ

वाइज़-ए-सादा को रोज़ों में तो राज़ी कर लूँ

फेंक देने की कोई चीज़ नहीं फ़ज़्ल-ओ-कमाल

वर्ना हासिद तिरी ख़ातिर से मैं ये भी कर लूँ

ऐ नकीरैन क़यामत ही पे रक्खो पुर्सिश

मैं ज़रा उम्र-ए-गुज़िश्ता की तलाफ़ी कर लूँ

कुछ तो हो चारा-ए-ग़म बात तो यक हो जाए

तुम ख़फ़ा हो तो अजल ही को मैं राज़ी कर लूँ

और फिर किस को पसंद आएगा वीराना-ए-दिल

ग़म से माना भी कि इस घर को मैं ख़ाली कर लूँ

जौर-ए-गर्दूं से जो मरने की भी फ़ुर्सत मिल जाए

इम्तिहान-ए-दम-ए-जाँ-परवर-ए-ईसी कर लूँ

दिल ही मिलता नहीं सिफ़लों से वगर्ना 'शिबली'

ख़ूब गुज़रे फ़लक-ए-दूँ से जो यारी कर लूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts