पूछते क्या हो जो हाल-ए-शब-ए-तन्हाई था's image
2 min read

पूछते क्या हो जो हाल-ए-शब-ए-तन्हाई था

Shibli NomaniShibli Nomani
0 Bookmarks 65 Reads0 Likes

पूछते क्या हो जो हाल-ए-शब-ए-तन्हाई था

रुख़्सत-ए-सब्र थी या तर्क-ए-शकेबाई था

शब-ए-फ़ुर्क़त में दिल-ए-ग़म-ज़दा भी पास न था

वो भी क्या रात थी क्या आलम-ए-तन्हाई था

मैं था या दीदा-ए-ख़ूँ-नाबा-फ़िशानी शब-ए-हिज्र

उन को वाँ मश्ग़ला-ए-अंजुमन-आराई था

पारा-हा-ए-दिल-ए-ख़ूनीं की तलब थी पैहम

शब जो आँखों में मिरी ज़ौक़-ए-ख़ुद-आराई था

रहम तो एक तरफ़ पाया-शनासी देखो

क़ैस को कहते हैं मजनून था सहराई था

आँखें क़ातिल सही पर ज़िंदा जो करना होता

लब पे ऐ जान तू एजाज़ मसीहाई था

ख़ून रो रो दिए बस दो ही क़दम में छाले

याँ वही हौसला-ए-बादिया-पैमाई था

दुश्मन-ए-जाँ थे उधर हिज्र में दर्द-ओ-ग़म-ओ-रंज

और इधर एक अकेला तिरा शैदाई था

उँगलियाँ उठती थीं मिज़्गाँ की उसी रुख़ पैहम

जिस तरफ़ बज़्म में वो काफ़िर-ए-तरसाई था

कौन इस राह से गुज़रा है कि हर नक़्श-ए-क़दम

चश्म-ए-आशिक़ की तरह उस का तमाशाई था

ख़ूब वक़्त आए नकीरैन जज़ा देगा ख़ुदा

लहद-ए-तीरा में भी क्या आलम-ए-तन्हाई था

हम ने भी हज़रत-ए-'शिबली' की ज़ियारत की थी

यूँ तो ज़ाहिर में मुक़द्दस था प शैदाई था

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts