हम उन के सितम को भी करम जान रहे हैं's image
1 min read

हम उन के सितम को भी करम जान रहे हैं

Kunwar Mohinder Singh BediKunwar Mohinder Singh Bedi
0 Bookmarks 45 Reads0 Likes

हम उन के सितम को भी करम जान रहे हैं

और वो हैं कि इस पर भी बुरा मान रहे हैं

ये लुत्फ़ तो देखो कि वो महफ़िल में मिरी सम्त

निगराँ हैं कि जैसे मुझे पहचान रहे हैं

हम को भी तो वाइज़ है बद ओ नेक में तमीज़

हम भी तो कभी साहिब-ए-ईमान रहे हैं

मुमकिन है कि इक रोज़ तिरी ज़ुल्फ़ भी छू लें

वो हाथ जो मसरूफ़-ए-गरेबान रहे हैं

ये सच है कि बंदे को ख़ुदा दहर में यूँ तो

माना नहीं जाता है मगर मान रहे हैं

वो आए हैं इस तौर से ख़ल्वत में मिरे पास

जैसे कि न आने पे पशेमान रहे हैं

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts