वस्ल की बनती हैं इन बातों से तदबीरें कहीं's image
1 min read

वस्ल की बनती हैं इन बातों से तदबीरें कहीं

Hasrat MohaniHasrat Mohani
0 Bookmarks 79 Reads0 Likes

वस्ल की बनती हैं इन बातों से तदबीरें कहीं

आरज़ूओं से फिरा करती हैं तक़दीरें कहीं

बे-ज़बानी तर्जुमान-ए-शौक़ बेहद हो तो हो

वर्ना पेश-ए-यार काम आती हैं तक़रीरें कहीं

मिट रही हैं दिल से यादें रोज़गार-ए-ऐश की

अब नज़र काहे को आएँगी ये तस्वीरें कहीं

इल्तिफ़ात-ए-यार था इक ख़्वाब-ए-आग़ाज़-ए-वफ़ा

सच हुआ करती हैं इन ख़्वाबों की ताबीरें कहीं

तेरी बे-सब्री है 'हसरत' ख़ामकारी की दलील

गिर्या-ए-उश्शाक़ में होती हैं तासीरें कहीं

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts