ख़ूब-रूयों से यारियाँ न गईं's image
1 min read

ख़ूब-रूयों से यारियाँ न गईं

Hasrat MohaniHasrat Mohani
0 Bookmarks 43 Reads0 Likes

ख़ूब-रूयों से यारियाँ न गईं

दिल की बे-इख़्तियारियाँ न गईं

अक़्ल-ए-सब्र-आश्ना से कुछ न हुआ

शौक़ की बे-क़रारियाँ न गईं

दिन की सहरा-नवर्दियाँ न छुटीं

शब की अख़्तर-शुमारियाँ न गईं

होश याँ सद्द-ए-राह-ए-इल्म रहा

अक़्ल की हरज़ा-कारियाँ न गईं

थे जो हमरंग-ए-नाज़ उन के सितम

दिल की उम्मीदवारियाँ न गईं

हुस्न जब तक रहा नज़्ज़ारा-फ़रोश

सब्र की शर्मसारियाँ न गईं

तर्ज़-ए-'मोमिन' में मरहबा 'हसरत'

तेरी रंगीं-निगारियाँ न गईं

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts