तिरा मजनूँ हूँ सहरा की क़सम है's image
1 min read

तिरा मजनूँ हूँ सहरा की क़सम है

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

तिरा मजनूँ हूँ सहरा की क़सम है

तलब में हूँ तमन्ना की क़सम है

सरापा नाज़ है तू ऐ परी-रू

मुझे तेरे सरापा की क़सम है

दिया हक़ हुस्न-ए-बाला-दस्त तुजकूं

मुझे तुझ सर्व-ए-बाला की क़सम है

किया तुझ ज़ुल्फ़ ने जग कूँ दिवाना

तिरी ज़ुल्फ़ाँ के सौदा की क़सम है

दो-रंगी तर्क कर हर इक से मत मिल

तुझे तुझ क़द्द-ए-राना की क़सम है

किया तुझ इश्क़ ने आलम कूँ मजनूँ

मुझे तुझ रश्क-ए-लैला की क़सम है

'वली' मुश्ताक़ है तेरी निगह का

मुझे तुझ चश्म-ए-शहला की क़सम है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts