हुए हैं राम पीतम के नयन आहिस्ता-आहिस्ता's image
1 min read

हुए हैं राम पीतम के नयन आहिस्ता-आहिस्ता

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
0 Bookmarks 68 Reads0 Likes

हुए हैं राम पीतम के नयन आहिस्ता-आहिस्ता

कि ज्यूँ फाँदे में आते हैं हिरन आहिस्ता-आहिस्ता

मिरा दिल मिस्ल परवाने के था मुश्ताक़ जलने का

लगी उस शम्अ सूँ आख़िर लगन आहिस्ता-आहिस्ता

गिरेबाँ सब्र का मत चाक कर ऐ ख़ातिर-ए-मिस्कीं

सुनेगा बात वो शीरीं-बचन आहिस्ता-आहिस्ता

गुल ओ बुलबुल का गुलशन में ख़लल होवे तो बरजा है

चमन में जब चले वो गुल-बदन आहिस्ता-आहिस्ता

'वली' सीने में मेरे पंजा-ए-इश्क़-ए-सितमगर ने

किया है चाक दिल का पैरहन आहिस्ता-आहिस्ता

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts