कठिन यात्रा's image
1 min read

कठिन यात्रा

TrilochanTrilochan
0 Bookmarks 61 Reads0 Likes


कभी सोचा मैं ने, सिर पर बड़े भार धर के,
सधे पैरों यात्रा सबल पद से भी कठिन है,
यहाँ तो प्राणों का विचलन मुझे रोक रखता
रहा है, कोई क्यों इस पर करे मौन करूणा ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts