हम जैसों के जितने सपने होते हैं's image
1 min read

हम जैसों के जितने सपने होते हैं

तनोज दधीच(tanoj dadhich)तनोज दधीच(tanoj dadhich)
0 Bookmarks 32 Reads0 Likes

हम जैसों के जितने सपने होते हैं
सारे तुझ से मिलते-जुलते होते हैं

दूर रहें तो याद बहुत आती सब की
साथ रहें तो घर में झगड़े होते हैं

इक दिन में ही पार समुंदर नहीं होगा
अच्छे शेर भी होते होते होते हैं

बाएँ तरफ़ अब भी अलमारी ख़ाली है
दाएँ तरफ़ ही मेरे कपड़े होते हैं

होली पर भी काम नहीं आता है वो
जिस कुर्ते पर ख़ून के धब्बे होते हैं

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts