सुनत नगारे चोट बिगसै कमलमुख's image
1 min read

सुनत नगारे चोट बिगसै कमलमुख

SunderdasSunderdas
0 Bookmarks 105 Reads0 Likes

सुनत नगारे चोट बिगसै कमलमुख,
अधिक उछाह फूल्यो मात है न तन में.
फेरै जब साँग तब कोऊ नहीं धीर धरै,
कायर कँपायमान होत देखि मन में .
कूदि के पतंग जैसे परत पावक माहि,
ऐसे टूटि परै बहु सावंत के गन में .
मारि घमासान करि सुंदर जुहरे श्याम,
सोई सूरबीर रुपि रहै जाय रन में.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts