अँधियाली घाटी में सहसा's image
1 min read

अँधियाली घाटी में सहसा

Sumitranandan PantSumitranandan Pant
0 Bookmarks 63 Reads0 Likes

अँधियाली घाटी में सहसा
हरित स्फुलिंग सदृश फूटा वह!
वह उड़ता दीपक निशीथ का,--
तारा-सा आकर टूटा वह!
जीवन के इस अन्धकार में
मानव-आत्मा का प्रकाश-कण
जग सहसा, ज्योतित कर देता
मानस के चिर गुह्य कुंज-वन!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts