मैं वह धनु हूँ's image
1 min read

मैं वह धनु हूँ

Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"
0 Bookmarks 102 Reads0 Likes

मैं वह धनु हूँ, जिसे साधने
में प्रत्यंचा टूट गई है।
स्खलित हुआ है बाण, यदपि ध्वनि
दिग्दिगन्त में फूट गई है--
प्रलय-स्वर है वह, या है बस
मेरी लज्जाजनक पराजय,
या कि सफलता ! कौन कहेगा
क्या उस में है विधि का आशय !
क्या मेरे कर्मों का संचय
मुझ को चिन्ता छूट गई है--
मैं बस जानूँ, मैं धनु हूँ, जिस
की प्रत्यंचा टूट गई है!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts