पहुँचे न जो मुराद को वो मुद्दआ हूँ मैं's image
1 min read

पहुँचे न जो मुराद को वो मुद्दआ हूँ मैं

Ratan PandoraviRatan Pandoravi
0 Bookmarks 76 Reads0 Likes

पहुँचे न जो मुराद को वो मुद्दआ हूँ मैं
नाकामियों की राह में ख़ुद खो गया हूँ मैं।

कहते हैं जिस को हुस्न उसी का है नाम इश्क़
देखो मुझे ब-ग़ौर कि शान-ए-ख़ुदा हूँ मैं।

पर्दा उठा कि होश की दुनिया बदल गई
हैरान हूँ कि सामने क्या देखता हूँ मैं।

पैवंद ख़ाक हो के मिलें सर-बुलंदियाँ
दश्त-ए-जुनूँ में बन के बगूला उड़ा हूँ मैं।

वाइज़ के पंद-ओ-व'अज़ का इतना असर तो है
जो कुछ भी आज उस ने कहा पी गया हूँ मैं।

समझे मिरी हक़ीक़त-ए-हस्ती कोई 'रतन'
ऐन-ए-फ़ना की शक्ल में ऐन-ए-बक़ा हूँ मैं।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts