मुक्ति प्रसंग 4.'s image
1 min read

मुक्ति प्रसंग 4.

Rajkamal ChoudharyRajkamal Choudhary
0 Bookmarks 99 Reads0 Likes



सुरक्षा की मोह में ही
सबसे पहले मरता है आदमी
अपने शरीर के इर्द-गिर्द
दीवारें ऊपर उठाता हुआ
मिट्टी के भिक्षा-पात्र
आगे, और आगे, और आगे बढ़ाता हुआ
गेहूँ और हथियारबन्द हवाई जहाज़ों के लिए
केवल मोहविहीन होकर ही
जबकि
नंगा, भूखा, बीमार आदमी
सुरक्षित होता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts