मिट्टी का दरपन टूटकर's image
1 min read

मिट्टी का दरपन टूटकर

Rajkamal ChoudharyRajkamal Choudhary
0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

मिट्टी का दरपन टूटकर

यह शहर खड़ा कर लेता है।
इस्पात की क़लम जादूगरों की
कहानियाँ लिखती है।
बहादुर औरतें शॉपिंग में
कठपुतलियाँ अथवा अन्तरिक्ष-यान
ख़रीद लाती हैं। हवा अपनी दाग़दार देह पर
ख़बरें छापती रहती हैं। और,हड़तालियों का जुलूस
चुपके से पब्लिक-बाथरूम में घुस जाता है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts