दिल पा के उस की ज़ुल्फ़ में आराम रह गया's image
1 min read

दिल पा के उस की ज़ुल्फ़ में आराम रह गया

Qaim ChandpuriQaim Chandpuri
0 Bookmarks 41 Reads0 Likes

दिल पा के उस की ज़ुल्फ़ में आराम रह गया

दरवेश जिस जगह कि हुई शाम रह गया

झगड़े में हम माबादी के याँ तक फँसे कि आह

मक़्सूद था जो अपने तईं काम रह गया

ना-पोख़्तगी का अपनी सबब उस समर से पूछ

जल्दी से बाग़बाँ की वो जो ख़ाम रह गया

सय्याद तू तो जा, है पर उस की भी कुछ ख़बर

जो मुर्ग़-ए-ना-तवाँ कि तह-ए-दाम रह गया

क़िस्मत तो देख टूटी है जा कर कहाँ कमंद

कुछ दूर अपने हाथ से जब बाम रह गया

मारें हैं हम नगीन-ए-सुलैमाँ को पुश्त-ए-दस्त

जब मिट गया निशान तो गो नाम रह गया

ने तुझ पे वो बहार रही और न याँ वो दिल

कहने को नेक-ओ-बद के इक इल्ज़ाम रह गया

मौक़ूफ़ कुछ कमाल पे याँ काम-ए-दिल नहीं

मुझ को ही देख लेना कि नाकाम रह गया

'क़ाएम' गए सब उस की ज़बाँ से जो थे रफ़ीक़

इक बे-हया मैं खाने को दुश्नाम रह गया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts