रात भी तन्हाई की पहली दहलीज़ पे है's image
1 min read

रात भी तन्हाई की पहली दहलीज़ पे है

Parveen ShakirParveen Shakir
0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

रात भी तन्हाई की पहली दहलीज़ पे है
और मेरी जानिब अपने हाथ बढ़ाती है
सोच रही हूं
उनको थामूं
ज़ीना-ज़ीना सन्नाटों के तहख़ानों में उतरूं
या अपने कमरे में ठहरूं
चांद मेरी खिड़की पर दस्तक देता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts