दिल का क्या है वो तो चाहेगा मुसलसल मिलना's image
1 min read

दिल का क्या है वो तो चाहेगा मुसलसल मिलना

Parveen ShakirParveen Shakir
0 Bookmarks 35 Reads0 Likes

दिल का क्या है वो तो चाहेगा मुसलसल मिलना
वो सितमगर भी मगर सोचे किसी पल मिलना

वाँ नहीं वक़्त तो हम भी हैं अदीम-उल-फ़ुरसत
उस से क्या कहिये जो हर रोज़ कहे कल मिलना

इश्क़ की राह के मुसाफ़िर का मुक़द्दर मालूम
दश्त-ए-उम्मीद में अन्देशे का बादल मिलना

दामने-शब को अगर चाक भी कर लें तो कहाँ
नूर में डूबा हुआ सुबह का आँचल मिलना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts