दर्द की आवाज़'s image
2 min read

दर्द की आवाज़

OZAIR RAHMANOZAIR RAHMAN
0 Bookmarks 181 Reads0 Likes

उड़ती देश में गर्द नहीं है

तुम्हें ज़रा भी दर्द नहीं है

देश है अपना मानते हो ना

दुख जितने हैं जानते हो ना

पेड़ है एक पर डालें बहुत हैं

डालों पर टहनियाँ बहुत हैं

पत्ते हैं रोज़ाना उगते

पीले लेकिन गिरते रहते

तुम हो माली नज़र कहाँ है

चमन की सोचो ध्यान कहाँ है

क्या तुम से हर फ़र्द नहीं है

तुम्हें ज़रा भी दर्द नहीं है

चुना तुम्हें है कहेंगे क़िस्से

देश दिखे जब हिस्से हिस्से

लोग परेशाँ आग ज़नी है

और विचारों में भी ठनी है

नज़रें चुरा कर यूँ ना बैठो

आगे कर चक्र तो फेंको

तुम चुप हो सब बोल रहे हैं

पँख वो अपने तोल रहे हैं

कहे कोई मर्द नहीं है

तुम्हें ज़रा भी दर्द नहीं है

बड़े भाई हो सबक़ तो सीखो

चारों ओर हैं छोटे देखो

लड़ लड़ कर बर्बाद हैं सारे

काटना मारना धर्म बना रे

वहाँ मस्जिदों में बम फटते

धर्म है एक वो फिर भी लड़ते

चले थे फ़ख़्र से सर ऊँचा था

गढ़े थे हाएल कब देखा था

आज हुए क्या देख रहे हो

चक्कर गिध के देख रहे हो

अरे क्यूँ चेहरा ज़र्द नहीं है

तुम्हें ज़रा भी दर्द नहीं है

होश में आओ वक़्त अभी है

रहबर हो और समय यही है

जीत चुनाव फ़िक्र सही है

पर हो क्या गर देश नहीं है

दूर देखना जुर्म कहाँ है

सीखने में कोई शर्म कहाँ है

बड़े हो गर तो बन के दिखाओ

कहाँ है शफ़क़त ले कर आओ

धर्म कभी बेदर्द नहीं है

तुम्हें ज़रा भी दर्द नहीं है

आज नहीं तो कल समझोगे

लुट जाओगे तब समझोगे

प्यार से बढ़ कर अस्त्र नहीं कुछ

घटिया झूट से वस्त्र नहीं कुछ

बोया जो है वही काटोगे

फिर उन के तलवे चाटोगे

हाथों में कश्कोल रहेंगे

गले में अपने ढोल रहेंगे

फिर सर ऊँचा करते रहना

बन जाना फिर देश का गहना

जागो हवा अभी सर्द नहीं है

तुम्हें ज़रा भी दर्द नहीं है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts