जब मैं सुना कि यार का दिल मुझ से हट गया's image
2 min read

जब मैं सुना कि यार का दिल मुझ से हट गया

Nazeer AkbarabadiNazeer Akbarabadi
0 Bookmarks 148 Reads0 Likes

जब मैं सुना कि यार का दिल मुझ से हट गया

सुनते ही इस के मेरा कलेजा उलट गया

फ़रहाद था तो शीरीं के ग़म में मुआ ग़रीब

लैला के ग़म में आन के मजनूँ भी लट गया

मैं इश्क़ का जला हूँ मिरा कुछ नहीं इलाज

वो पेड़ क्या हरा हो जो जड़ से उखट गया

इतना कोई कहे कि दिवाने पड़ा है क्या

जा देख अभी उधर कोई परियों का ग़ट गया

छीना था दिल को चश्म ने लेकिन मैं क्या करूँ

ऊपर ही ऊपर उस सफ़-ए-मिज़्गाँ में पट गया

क्या खेलता है नट की कला आँखों आँखों में

दिल साफ़ ले लिया है जो पूछा तो नट गया

आँखों में मेरी सुब्ह-ए-क़यामत गई झमक

सीने से उस परी के जो पर्दा उलट गया

सुन कर लगी ये कहने वो अय्यार-ए-नाज़नीं

''क्या बोलें चल हमारा तो दिल तुझ से फट गया''

जब मैं ने उस सनम से कहा क्या सबब है जान

इख़्लास हम से कम हुआ और प्यार घट गया

ऐसी वो भारी मुझ से हुई कौन सी ख़ता

जिस से ये दिल उदास हुआ जी उचट गया

आँखें तुम्हारी क्या फिरीं उस वक़्त ''मेरी जान''

सच पूछिए तो मुझ से ज़माना उलट गया

उश्शाक़ जाँ-निसारों में मैं तो इमाम हूँ

ये कह के मैं जो उस के गले से लिपट गया

कितना ही उस ने तन को छुड़ाया झिड़क झिड़क

पर मैं भी क़ैंची बाँध के ऐसा चिमट गया

ये कश्मकश हुई कि गरेबाँ मिरा उधर

टुकड़े हुआ और उस का दुपट्टा भी फट गया

आख़िर इसी बहाने मिला यार से 'नज़ीर'

कपड़े बला से फट गए सौदा तो पट गया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts