न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ's image
1 min read

न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
0 Bookmarks 64 Reads0 Likes

न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ

कसी काम में जो न आ सके मैं वो एक मुश्त-ए-ग़ुबार हूँ

 

न दवा-ए-दर्द-ए-जिगर हूँ मैं न किसी की मीठी नज़र हूँ मैं

न इधर हूँ मैं न उधर हूँ मैं न शकेब हूँ न क़रार हूँ

 

मिरा वक़्त मुझ से बिछड़ गया मिरा रंग-रूप बिगड़ गया

जो ख़िज़ाँ से बाग़ उजड़ गया मैं उसी की फ़स्ल-ए-बहार हूँ

 

पए फ़ातिहा कोई आए क्यूँ कोई चार फूल चढ़ाए क्यूँ

कोई आ के शम्अ' जलाए क्यूँ मैं वो बेकसी का मज़ार हूँ

 

न मैं लाग हूँ न लगाव हूँ न सुहाग हूँ न सुभाव हूँ

जो बिगड़ गया वो बनाव हूँ जो नहीं रहा वो सिंगार हूँ

 

मैं नहीं हूँ नग़्मा-ए-जाँ-फ़ज़ा मुझे सुन के कोई करेगा क्या

मैं बड़े बिरोग की हूँ सदा मैं बड़े दुखी की पुकार हूँ

न मैं 'मुज़्तर' उन का हबीब हूँ न मैं 'मुज़्तर' उन का रक़ीब हूँ

जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ जो उजड़ गया वो दयार हूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts