यूँ हाथ नहीं's image
1 min read

यूँ हाथ नहीं

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 69 Reads0 Likes

यूँ हाथ नहीं आता वो गौहर-ए-यक-दाना

यक-रंगी ओ आज़ादी ऐ हिम्मत-ए-मर्दाना

या संजर ओ तुग़रल का आईन-ए-जहाँगीरी

या मर्द-ए-क़लंदर के अंदाज़-ए-मुलूकाना

या हैरत-ए-'फ़राबी' या ताब-ओ-तब-ए-'रूमी'

या फ़िक्र-ए-हकीमाना या जज़्ब-ए-कलीमाना

या अक़्ल की रूबाही या इश्क़-ए-यदुल-लाही

या हीला-ए-अफ़रंगी या हमला-ए-तुरकाना

या शर-ए-मुसलमानी या दैर की दरबानी

या नारा-ए-मस्ताना काबा हो कि बुत-ख़ाना

मीरी में फ़क़ीरी में शाही में ग़ुलामी में

कुछ काम नहीं बनता बे-जुरअत-ए-रिंदाना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts