ये महर है बे-मेहरी-ए-सय्याद's image
1 min read

ये महर है बे-मेहरी-ए-सय्याद

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 33 Reads0 Likes

ये महर है बे-मेहरी-ए-सय्याद का पर्दा

आई न मिरे काम मिरी ताज़ा-सफ़ीरी

रखने लगा मुरझाए हुए फूल क़फ़स में

शायद कि असीरों को गवारा हो असीरी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts