मुझे आह-ओ-फ़ुग़ान's image
1 min read

मुझे आह-ओ-फ़ुग़ान

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 49 Reads0 Likes

मुझे आह-ओ-फ़ुग़ान-ए-नीम-शब का फिर पयाम आया

थम ऐ रह-रौ कि शायद फिर कोई मुश्किल मक़ाम आया

ज़रा तक़दीर की गहराइयों में डूब जा तू भी

कि इस जंगाह से मैं बन के तेग़-ए-बे-नियाम आया

ये मिसरा लिख दिया किस शोख़ ने मेहराब-ए-मस्जिद पर

ये नादाँ गिर गए सज्दों में जब वक़्त-ए-क़याम आया

चल ऐ मेरी ग़रीबी का तमाशा देखने वाले

वो महफ़िल उठ गई जिस दम तो मुझ तक दौर-ए-जाम आया

दिया 'इक़बाल' ने हिन्दी मुसलमानों को सोज़ अपना

ये इक मर्द-ए-तन-आसाँ था तन-आसानों के काम आया

उसी 'इक़बाल' की मैं जुस्तुजू करता रहा बरसों

बड़ी मुद्दत के बाद आख़िर वो शाहीं ज़ेर-ए-दाम आया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts