हरि तुम हरो जन की भीर's image
1 min read

हरि तुम हरो जन की भीर

MirabaiMirabai
0 Bookmarks 416 Reads0 Likes

हरि तुम हरो जन की भीर।
द्रोपदी की लाज राखी, तुम बढायो चीर॥
भक्त कारण रूप नरहरि, धरयो आप शरीर।
हिरणकश्यपु मार दीन्हों, धरयो नाहिंन धीर॥
बूडते गजराज राखे, कियो बाहर नीर।
दासि 'मीरा लाल गिरिधर, दु:ख जहाँ तहँ पीर॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts