नया बैंक's image
2 min read

नया बैंक

Manglesh DabralManglesh Dabral
0 Bookmarks 69 Reads0 Likes

नया बैंक पुराने बैंक की तरह नहीं है
उसमें पुराने बैंक की कोई छाया नहीं है
उसका लोहे की सलाख़ों वाला दरवाज़ा और उसका अंधेरा नहीं है
लॉकर और स्ट्रांगरूम नहीं है
जिसकी चाभियां वह खुद से भी छिपाकर रखता है
वह एक सपाट और रोशन जगह है विशाल कांच की दीवार के पार
एअरकंडीशनर भी बहुत तेज़ है
जहाँ लोग हांफते पसीना पोंछते आते हैं
और तुरंत कुछ राहत महसूस करते हैं

नये बैंक में एक ठंढी पारदर्शिता है
नया बैंक अपने को हमेशा चमका कर रखता है
उसका फ़र्श लगातार साफ़ किया जाता है
वह अपने आसपास ठेलों पर सस्ती चीज़ें बेचने वालों को भगा देता है
और वहां कारों के लिए कर्ज़ देने वाली गुमटियां खोल देता है
बैंक के भीतर मेजें-कुर्सियां और लोग इस तरह टिके हैं
जैसे वे अभी-अभी आये हों उनकी कोई जड़ें न हों यह सब अस्थायी हो
नया बैंक पुराने बैंक से कोई भाईचारा महसूस नहीं करता
वह उसे अपने इलाक़े के पिछड़ेपन का कारण मानता है
और कहीं दूर ढकेल देना चाहता है

नये बैंक में वे ख़ज़ांची नहीं हैं जो महान गणितज्ञों की तरह बैठे होते थे
किसी अंधेरे से रहस्यमय पूंजी को निकाल लाते थे
और एक प्रमेय की तरह हल कर देते थे
वे प्रबंधक नहीं हैं
जो बूढ़े लोगों की पेंशन का हिसाब संभाल कर रखते थे
नया बैंक सिर्फ़ दिये जानेवाले कर्ज़
और लिये जानेवाले ब्याज का हिसाब रखता है
प्रोसेसिंग शुल्क मासिक क़िस्त पेमेंट चार्जेज़ चक्रवृद्धि ब्याज लेट
फ़ाइन और पैनल्टी वसूलता है
और एक जासूस की तरह देखता रहता है कि कौन अमीर हो रहा है
किसका पैसा कम हो रहा है कौन दिवालियेपन के कगार पर है
और किसका खाता बंद करने का समय आ गया है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts