जन्नत ख़ाक पे जिस रात उतर आई थी's image
1 min read

जन्नत ख़ाक पे जिस रात उतर आई थी

Makhdoom MohiuddinMakhdoom Mohiuddin
0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

जन्नत ख़ाक पे जिस रात उतर आई थी
बदलियाँ रहमते यज़दा की जहाँ छाई थी ।
इशरत-ओ-ऐश की जिस जा के फ़रादानी थी
जिस जगह जल्वा फिगन रूहे जहाँबानी थी ।

हाँ, वहीं मेरे दिले ज़ार ने ये भी देखा
हाँ, मेरी चश्मे गुनहगार ने ये भी देखा
ख़ूने दहकाँ में इमारत के सफीने थे रवाँ ।
हर तरफ़ अहल की जलती हुई म‍इयत का धुआँ ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts