एक अजीब दिन's image
1 min read

एक अजीब दिन

Kunwar NarayanKunwar Narayan
0 Bookmarks 55 Reads0 Likes


आज सारे दिन बाहर घूमता रहा

और कोई दुर्घटना नहीं हुई।

आज सारे दिन लोगों से मिलता रहा

और कहीं अपमानित नहीं हुआ।

आज सारे दिन सच बोलता रहा

और किसी ने बुरा न माना।

आज सबका यकीन किया

और कहीं धोखा नहीं खाया।

और सबसे बड़ा चमत्कार तो यह

कि घर लौटकर मैंने किसी और को नहीं

अपने ही को लौटा हुआ पाया।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts