माई हौं गिरधरन के गुन गाऊँ's image
1 min read

माई हौं गिरधरन के गुन गाऊँ

KumbhandasKumbhandas
0 Bookmarks 74 Reads0 Likes

माई हौं गिरधरन के गुन गाऊँ।
मेरे तो ब्रत यहै निरंतर, और न रुचि उपजाऊँ ॥
खेलन ऑंगन आउ लाडिले, नेकहु दरसन पाऊँ।
'कुंभनदास हिलग के कारन, लालचि मन ललचाऊँ ॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts