जो हर रोज जाता था वो गीत हूं मैं...'s image
1 min read

जो हर रोज जाता था वो गीत हूं मैं...

Kumar VishwasKumar Vishwas
5 Bookmarks 8068 Reads32 Likes
मुझसे सुनो खूब गजलें, मधुर गीत
मुझसे मेरा मात्र परिचय न पूछो
कि तपती दुपहरी में छत पर अकेली
जो तुमको बुलाता था वो गीत हूं मैं
मुंह ढांपकर नर्म तकिये के भीतर
जो तुमको रुलाता था वो गीत हूं मैं
तुम्हारे ही पीछे जो कॉलेज से घर तक
जो हर रोज जाता था वो गीत हूं मैं...

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts