लीला लाल गोवर्धनधर की's image
1 min read

लीला लाल गोवर्धनधर की

KrishnadasKrishnadas
0 Bookmarks 35 Reads0 Likes

लीला लाल गोवर्धनधर की।
गावत सुनत अधिक रुचि उपजत रसिक कुंवर श्री राधावर की॥१॥
सात द्योस गिरिवर कर धार्यो मेटी तृषा पुरंदरदर की।
वृजजन मुदित प्रताप चरण तें खेलत हँसत निशंक निडर की॥२॥
गावत शुक शारद मुनि नारद रटत उमापति बल बल कर की।
कृष्णदास द्वारे दुलरावत मांगत जूठन नंदजू के घर की॥३॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts