चमन में शब को जो वो शोख़ बे-नक़ाब आया's image
1 min read

चमन में शब को जो वो शोख़ बे-नक़ाब आया

Khwaja Haider Ali AatishKhwaja Haider Ali Aatish
0 Bookmarks 61 Reads0 Likes

चमन में शब को जो वो शोख़ बे-नक़ाब आया

यक़ीन हो गया शबनम को आफ़्ताब आया

उन अँखड़ियों में अगर नश्शा-ए-शराब आया

सलाम झुक के करूँगा जो फिर हिजाब आया

किसी के महरम-ए-आब-ए-रवाँ की याद आई

हबाब के जो बराबर कभी हबाब आया

शब-ए-फ़िराक़ में मुझ को सुलाने आया था

जगाया मैं ने जो अफ़्साना-गो को ख़्वाब आया

अदम में हस्ती से जा कर यही कहूँगा मैं

हज़ार हसरत-ए-ज़िंदा को गाड़ दाब आया

चकोर हुस्न-ए-मह-ए-चार-दह को भूल गया

मुराद पर जो तिरा आलम-ए-शबाब आया

मोहब्बत-ए-मय-ओ-माशूक़ तर्क कर 'आतिश'

सफ़ेद बाल हुए मौसम-ए-ख़िज़ाब आया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts