हम और सड़के's image
1 min read

हम और सड़के

Kedarnath AgarwalKedarnath Agarwal
0 Bookmarks 44 Reads0 Likes


सूर्यास्त मे समा गयीं
सूर्योदय की सड़कें,
जिन पर चलें हम
तमाम दिन सिर और सीना ताने,
महाकाश को भी वशवर्ती बनाने,
भूमि का दायित्व
उत्क्रांति से निभाने,
और हम
अब रात मे समा गये,
स्वप्न की देख-रेख में
सुबह की खोयी सड़कों का
जी-जान से पता लगाने

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts