ये चाँद इतना निढाल क्यूँ है ये सोचता हूँ's image
1 min read

ये चाँद इतना निढाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

Kashmiri Lal ZakirKashmiri Lal Zakir
0 Bookmarks 129 Reads0 Likes

ये चाँद इतना निढाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

ये चाँदनी को ज़वाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

मुझे तो उस का मलाल था वो जुदा हुआ था

उसे भी उस का मलाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

अगर जुदाई की लज़्ज़तें ही अज़ीज़-तर हैं

तो मुझ को फ़िक्र-ए-विसाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

मिरे फ़साने अवाम को भी पसंद क्यूँ हैं

तिरे करम का कमाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

अगर मोहब्बत में सारे रिश्तों की अज़्मतें हैं

तो दुश्मनी का सवाल क्यूँ है ये सोचता हूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts