कल्पना's image
0 Bookmarks 663 Reads0 Likes

कल्पना,
सागर किनारे
रेत के घरौंदे की तरह
लहरों के ठोकर खाती है
और बिखर जाती है,
और मैं -
एक जिद्दी बच्चे की तरह।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts