समागम's image
0 Bookmarks 46 Reads0 Likes


सभी कुछ बदलता है
अपनी रफ़्तार से
सिर्फ़ नदी ही नहीं
पहाड़ भी
चूर-चूर हो कर बहता है
नीचे
नदी की छाती से लगा हुआ.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts