यारों की हम से दिल-शिकनी हो सके कहाँ's image
1 min read

यारों की हम से दिल-शिकनी हो सके कहाँ

IMAM BAKHSH NASIKHIMAM BAKHSH NASIKH
0 Bookmarks 58 Reads0 Likes

यारों की हम से दिल-शिकनी हो सके कहाँ

याँ पास है न ख़ातिर-ए-अग़्यार तोड़िए

हम जौर-ए-चश्म-ए-यार से दम मारते नहीं

या'नी रवा है कब दिल-ए-बीमार तोड़िए

याँ दर्द-ए-सर ख़ुमार से है वाँ दुकान बंद

टकरा के सर को अब दर-ए-ख़ुम्मार तोड़िए

टकराऊँ वाँ जो सर तो वो कहता है क्या मुझे

साहब न मुझ ग़रीब की दीवार तोड़िए

दम तोड़ना है फ़ुर्क़त-ए-जानाँ में अपना काम

कुछ कोहकन नहीं हैं जो कोहसार तोड़िए

'नासिख़' बक़ौल-ए-अफ़सह-ए-हिन्दोस्ताँ कभी

ज़ाहिद का दिल न ख़ाना-ए-ख़ु़म्मार तोड़िए

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts