दिल-ए-दर्द-आश्ना का मुद्दआ' क्या's image
1 min read

दिल-ए-दर्द-आश्ना का मुद्दआ' क्या

Gulzar DehlaviGulzar Dehlavi
0 Bookmarks 82 Reads0 Likes

दिल-ए-दर्द-आश्ना का मुद्दआ' क्या

किसी बेदाद की कीजे दवा क्या

हुआ इंसाँ ही जब इंसाँ का दुश्मन

शिकायत फिर किसी की क्या गिला क्या

बहार-ए-ताज़ा आई गुल्सिताँ में

खिलाए जाने गुल बाद-ए-सबा क्या

वो कहते हैं नशेमन तर्क कीजे

चली गुलशन में ये ताज़ा हवा क्या

उठी इंसानियत यकसर यहाँ से

यकायक ख़ू-ए-इंसाँ को हुआ क्या

नहीं मा'लूम मुस्तक़बिल किसी को

मराहिल पेश आएँ जाने क्या क्या

उजड़ कर रह गया दो दिन में हे हे

मिरे 'गुलज़ार'-ए-हिन्दी को हुआ क्या

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts