इश्क़ में कब ये ज़रूरी है कि रोया जाए's image
1 min read

इश्क़ में कब ये ज़रूरी है कि रोया जाए

Gopal MittalGopal Mittal
0 Bookmarks 44 Reads0 Likes

इश्क़ में कब ये ज़रूरी है कि रोया जाए

ये नहीं दाग़-ए-नदामत जिसे धोया जाए

दोपहर हिज्र की तपती हुई सर पर है खड़ी

वस्ल की रात को शिकवों में न खोया जाए

उलझे अब पंजा-ए-वहशत न गरेबानों से

आज उसे सीना-ए-आ'दा में गड़ोया जाए

एक ही घूँट सही आज तो पी ले ज़ाहिद

कुछ न कुछ ज़ोहद की ख़ुश्की को समोया जाए

जितने भी दाग़ रऊनत के हैं धुल जाएँगे

हौज़-ए-मय में तुझे शैख़ आज डुबोया जाए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts