अब कोई ग़म-गुसार हमारा नहीं रहा's image
1 min read

अब कोई ग़म-गुसार हमारा नहीं रहा

Dil ShahjahanpuriDil Shahjahanpuri
0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

अब कोई ग़म-गुसार हमारा नहीं रहा

दुनिया को ए'तिबार हमारा नहीं रहा

इस फ़र्त-ए-ग़म में ख़ून के आँसू टपक पड़े

अब दिल भी राज़दार हमारा नहीं रहा

उस की हुज़ूर पीर-ए-मुग़ाँ में है मंज़िलत

जो अहद-ए-पाएदार हमारा नहीं रहा

हर दाग़ उभर के ज़ख़्म बना ज़ख़्म रश्क-ए-गुल

दिल माइल-ए-बहार हमारा नहीं रहा

ये है मआल-ए-सोहबत-ए-ज़ाहिद जनाब-ए-दिल

रिंदों में अब शुमार हमारा नहीं रहा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts