मन कि बात's image
1 min read

मन कि बात

ChanakyaChanakya
0 Bookmarks 75 Reads0 Likes

मनसा चिन्तितं कार्यं वाचा नैव प्रकाशयेत्।
मन्त्रेण रक्षयेद् गूढं कार्य चापि नियोजयेत्।।

मन में सोंचे हुए कार्य को किसी के सामने प्रकट न करें बल्कि मनन पूर्वक उसकी सुरक्षा करते हुए उसे कार्य में परिणत कर दें।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts