जाके लिए घर आई's image
1 min read

जाके लिए घर आई

Bihari LalBihari Lal
0 Bookmarks 51 Reads0 Likes

जाके लिए घर आई घिघाय, करी मनुहारि उती तुम गाढ़ी
आजु लखैं उहिं जात उतै, न रही सुरत्यौ उर यौं रति बाढ़ी
ता छिन तैं तिहिं भाँति अजौं, न हलै न चलै बिधि की लसी काढ़ी
वाहि गँवा छिनु वाही गली तिनु, वैसैहीं चाह (बै) वैसेही ठाढ़ी ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts