बुत-ए-काफ़िर जो तू मुझ से ख़फ़ा हो's image
1 min read

बुत-ए-काफ़िर जो तू मुझ से ख़फ़ा हो

Bhartendu HarishchandraBhartendu Harishchandra
0 Bookmarks 22 Reads0 Likes

बुत-ए-काफ़िर जो तू मुझ से ख़फ़ा हो
नहीं कुछ ख़ौफ़ मेरा भी ख़ुदा है

ये दर-पर्दा सितारों की सदा है
गली-कूचा में गर कहिए बजा है

रक़ीबों में वो होंगे सुर्ख़-रू आज
हमारे क़त्ल का बेड़ा लिया है

यही है तार उस मुतरिब का हर रोज़
नया इक राग ला कर छेड़ता है

शुनीदा कै बवद मानिंद-ए-दीद
तुझे देखा है हूरों को सुना है

पहुँचता हूँ जो मैं हर रोज़ जा कर
तो कहते हैं ग़ज़ब तू भी 'रसा' है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts