अथ मदिरास्तवराज's image
1 min read

अथ मदिरास्तवराज

Bhartendu HarishchandraBhartendu Harishchandra
0 Bookmarks 29 Reads0 Likes


निन्दतो बहुभिलोकैमुखस्वासपरागमुखै: ।

बल:हीना क्रियाहीनो मूत्रकृतलुण्ठतेक्षितौ ।।

पीत्वा पीत्वा पुन: पीत्वा यावल्लुंठतिभूतले ।

उत्थाय च पुन: पीत्वा नरोमुक्तिमवाप्नुयात् ।।

अर्थात भले ही कुछ लोग इसकी - मदिरा की - निन्दा करते हों किन्तु बहुतों के मुख से निकलने वाली सांस को यह सुवासित करने का कार्य करती है । यह अलग बात है कि यह बल और क्रिया से हीन कर मूत्र से सिंचित धरा पर क्यों न धराशायी कर दे फिर भी मदिरा का सेवनकर्ता पीता है , पीता है , बार -बार पीता है और तब तक पीता है ,जब तक कि धरती माता का चुम्बन न करने लगे । वह फिर उठता है ,फिर पीता है और तब तक पीता जाता है जब तक कि उसकी नर देह को मुक्ति नहीं मिल जाती ।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts