अंधेरा मिटता नहीं है मिटाना पड़ता है's image
1 min read

अंधेरा मिटता नहीं है मिटाना पड़ता है

Bharat Bhushan PantBharat Bhushan Pant
0 Bookmarks 1323 Reads0 Likes

अंधेरा मिटता नहीं है मिटाना पड़ता है

बुझे चराग़ को फिर से जलाना पड़ता है

ये और बात है घबरा रहा है दिल वर्ना

ग़मों का बोझ तो सब को उठाना पड़ता है

कभी कभी तो इन अश्कों की आबरू के लिए

चाहते हुए भी मुस्कुराना पड़ता है

अब अपनी बात को कहना बहुत ही मुश्किल है

हर एक बात को कितना घुमाना पड़ता है

वगर्ना गुफ़्तुगू करती नहीं ये ख़ामोशी

हर इक सदा को हमें चुप कराना पड़ता है

अब अपने पास तो हम ख़ुद को भी नहीं मिलते

हमें भी ख़ुद से बहुत दूर जाना पड़ता है

इक ऐसा वक़्त भी आता है ज़िंदगी में कभी

जब अपने साए से पीछा छुड़ाना पड़ता है

बस एक झूट कभी आइने से बोला था

अब अपने आप से चेहरा छुपाना पड़ता है

हमारे हाल पे अब छोड़ दे हमें दुनिया

ये बार बार हमें क्यूँ बताना पड़ता है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts