क्यूँ मैं अब क़ाबिल-ए-जफ़ा न रहा's image
1 min read

क्यूँ मैं अब क़ाबिल-ए-जफ़ा न रहा

Bekhud BadayuniBekhud Badayuni
0 Bookmarks 51 Reads0 Likes

क्यूँ मैं अब क़ाबिल-ए-जफ़ा न रहा

क्या हुआ कहिए मुझ में क्या न रहा

उन की महफ़िल में उस के चर्चे हैं

मुझ से अच्छा मिरा फ़साना रहा

वाइज़ ओ मोहतसिब का जमघट है

मै-कदा अब तो मै-कदा न रहा

उफ़-रे ना-आश्नाइयाँ उस की

चार दिन भी तो आश्ना न रहा

लाख पर्दे में कोई क्यूँ न छुपे

राज़-ए-उल्फ़त तो अब छुपा न रहा

इतनी मायूसियाँ भी क्या 'बेख़ुद'

क्या ख़ुदा का भी आसरा न रहा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts