हैं वस्ल में शोख़ी से पाबंद-ए-हया आँखें's image
1 min read

हैं वस्ल में शोख़ी से पाबंद-ए-हया आँखें

Bekhud BadayuniBekhud Badayuni
0 Bookmarks 43 Reads0 Likes

हैं वस्ल में शोख़ी से पाबंद-ए-हया आँखें

अल्लाह-रे ज़ालिम की मज़लूम-नुमा आँखें

आफ़त में फंसाएँगी दीवाना बनाएँगी

वो ग़ालिया-सा ज़ुल्फ़ें वो होश-रुबा आँखें

क्या जानिए क्या करता क्या देखता क्या कहता

ज़ाहिद को भी मेरी सी देता जो ख़ुदा आँखें

रहम उन को न आया था तो शर्म ही आ जाती

बे-दाद के शिकवे पर झुकतीं तो ज़रा आँखें

तुम जान को खो बैठो या आँखों को रो बैठो

'बेख़ुद' न मिलाएँगे वो तुम से ज़रा आँखें

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts