गिराँ गुज़रने लगा दौर-ए-इंतिज़ार मुझे's image
1 min read

गिराँ गुज़रने लगा दौर-ए-इंतिज़ार मुझे

Asad BhopaliAsad Bhopali
0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

गिराँ गुज़रने लगा दौर-ए-इंतिज़ार मुझे

ज़रा थपक के सुला दे ख़याल-ए-यार मुझे

न आया ग़म भी मोहब्बत में साज़गार मुझे

वो ख़ुद तड़प गए देखा जो बे-क़रार मुझे

निगाह-ए-शर्मगीं चुपके से ले उड़ी मुझ को

पुकारता ही रहा कोई बार बार मुझे

निगाह-ए-मस्त ये मेयार-ए-बे-ख़ुदी क्या है

ज़माने वाले समझते हैं होशियार मुझे

बजा है तर्क-ए-तअल्लुक़ का मशवरा लेकिन

न इख़्तियार उन्हें है न इख़्तियार मुझे

बहार और ब-क़ैद-ए-ख़िज़ाँ है नंग मुझे

अगर मिले तो मिले मुस्तक़िल बहार मुझे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts