हम-सर-ए-ज़ुल्फ़ क़द-ए-हूर-ए-शिमाइल ठहरा's image
2 min read

हम-सर-ए-ज़ुल्फ़ क़द-ए-हूर-ए-शिमाइल ठहरा

Ameer MinaiAmeer Minai
0 Bookmarks 208 Reads0 Likes

हम-सर-ए-ज़ुल्फ़ क़द-ए-हूर-ए-शिमाइल ठहरा

लाम का ख़ूब अलिफ़ मद्द-ए-मुक़ाबिल ठहरा

दीदा-ए-तर से जो दामन में गिरा दिल ठहरा

बहते बहते ये सफ़ीना लब-ए-साहिल ठहरा

की नज़र रू-ए-किताबी पे तो कुछ दिल ठहरा

मक्तब-ए-शौक़ भी क़ुरआन की मंज़िल ठहरा

निगहत-ए-गुल से परेशान हुआ उस का दिमाग़

ख़ंदा-ए-गुल न हुआ शोर-ए-अनादिल ठहरा

नज्द से क़ैस जो आया मरे ज़िंदाँ की तरफ़

देर तक गोश-बर-आवाज़-ए-सलासिल ठहरा

हुस्न जिस तिफ़्ल का चमका वो हुआ बाइस-ए-क़त्ल

जिस ने तलवार सँभाली मिरा क़ातिल ठहरा

ख़त जो निकला रुख़-ए-जानाँ पे मिला बोसा-ए-ख़ाल

यही दाना फ़क़त इस किश्त का हासिल ठहरा

अलम इक नुक़्ता जो मशहूर था ऐ जोश-ए-जुनूँ

ग़ौर से की जो नज़र नुक़्ता-ए-बातिल ठहरा

दूर जब तक थे तड़पता था में कैसा कैसा

पास आ कर वो जो ठहरे तो मिरा दिल ठहरा

कसरत-ए-दाग़ से गुल-दस्ता बना दिल तो क्या

ज़ीनत-ए-बाग़ न आराइश-ए-महफ़िल ठहरा

दौड़ता क़ैस भी आता है निहायत ही क़रीब

इक ज़रा नाक़े को ऐ साहिब-ए-महमिल ठहरा

दम जो बेताब था मुद्दत से मिरे सीने में

तेग़-ए-क़ातिल के तले कुछ दम-ए-बिस्मिल ठहरा

हम बड़ी दूर से आए हैं तुम्हारा है ये हाल

घर से दरवाज़े तक आना कई मंज़िल ठहरा

अब तक आती है सदा तुर्बत-ए-लैला से 'अमीर'

सारबान अब तो ख़ुदा के लिए महमिल ठहरा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts