इन शोख़ हसीनों की अदा और ही कुछ है's image
1 min read

इन शोख़ हसीनों की अदा और ही कुछ है

ABUL KALAM AZADABUL KALAM AZAD
0 Bookmarks 236 Reads0 Likes
इन शोख़ हसीनों की अदा और ही कुछ है
और इन की अदाओं में मज़ा और ही कुछ है
ये दिल है मगर दिल में बसा और ही कुछ है
दिल आईना है जल्वा-नुमा और ही कुछ है
हम आप की महफ़िल में न आने को न आते
कुछ और ही समझे थे हुआ और ही कुछ है
बे-ख़ुद भी हैं होशियार भी हैं देखने वाले
इन मस्त निगाहों की अदा और ही कुछ है
'आज़ाद' हूँ और गेसू-ए-पेचाँ में गिरफ़्तार
कह दो मुझे क्या तुम ने सुना और ही कुछ है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts